Click here for Myspace Layouts

Sunday, November 20, 2011

"मेरा देश और मै" पर संभाषण प्रतियोगिता संपन्न

जय हिंद,
समस्त आत्मीय जनों को आपके अपने गौरव शर्मा "भारतीय" की ओर से सादर प्रणाम, आदाब, सतश्री अकाल !!
दिनांक 19.11.2011 को "अभियान भारतीय" एवं संस्कार भारती विद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में "मेरा देश और मै" विषय पर आयोजित संभाषण प्रतियोगिता आप सभी के आशीर्वाद से सफलतापूर्वक संपन्न हुआ|
कार्यक्रम की झलकियाँ आप सभी के लिए......


माँ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते अतिथि गण एवं विद्यालय की प्राचार्य

कार्यक्रम के मुख्या अतिथि श्री गिरीश पंकज जी का सम्मान

कार्यक्रम के विशेष अतिथि श्री मीर अली "मीर" का सम्मान

"मेरा देश ओर मै " विषय पर भाषण देती विद्यालय की छात्रा

कार्यक्रम के अतिथि श्री घनश्याम राजू तिवारी, श्री मनोज कंदोई, श्री गिरीश पंकज, श्री मीर अली "मीर" एवं संजय मिश्र "हबीब"
उपस्थित जनों एवं विद्यार्थियों को संबोधित करते श्री मनोज कंदोई जी
{कार्यक्रम में उपस्थित जनों एवं विद्यार्थियों को संबोधित करते आदरणीय श्री गिरीश पंकज जी}
उपस्थित जनों एवं विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए श्री घनश्याम राजू तिवारी जी
{पुरस्कार प्राप्त करते प्रतिभागी}
{पुरस्कार प्राप्त करते प्रतिभागी}
{निर्णायकों का सम्मान करते अतिथि गण}
{कार्यक्रम के सम्मानीय अतिथि गणों का सम्मान करते हबीब साहब}
{कार्यक्रम के सम्मानीय अतिथि गणों का सम्मान करते हबीब साहब}
{संस्कार भारती विद्यालय की प्राचार्य महोदया को अभिनन्दन पत्र प्रदान करते सम्मानीय अतिथि गण}
{कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थी एवं शिक्षकगण}
इस प्रकार आप सभी के सहयोग एवं आशीर्वाद से कार्यक्रम संपन्न हुआ......

5 comments:

  1. वाह गौरव! सुन्दर कार्यक्रम की मनमोहक झलकियां लगाई हैं आपने...
    पूरा कार्यक्रम नज़रों में आ गया....आपको, अभियान भारतीय और संस्कार भारती विद्यालय को सादर बधाई एवं शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  2. वाह गौरव! वाह!!

    बहत सुन्दर कार्य क्रम और बेहद आकर्षक तश्वीरें जो बहुत कुछ उनकाही बातों को भी कह रहीं हैं.देश भक्ति के कार्य क्रम तो वैसे बह आकर्षक और जोशीले होतें है. आका समर्पण और श्रम दोनों ही सराहनीय, प्रशंसनीय और सार्थक मेरी शुभ कामनाये, यथोचि स्नेह-सम्मान और आशीर्वाद.

    ReplyDelete
  3. समस्त सम्माननीय आत्मीय जनों का सहृदय आभार.....

    ReplyDelete
  4. सफल आयोजन के लिए बधाई .
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    सोमवार, 21 मई 2012
    यह बोम्बे मेरी जान (चौथा भाग )
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    तेरी आँखों की रिचाओं को पढ़ा है -
    उसने ,
    यकीन कर ,न कर .

    ReplyDelete